Tuesday, June 25, 2024
Homeराज्यUttar Pradeshआज़ादी के अमृत महोत्सव पर गाजियाबाद के शालीमार गार्डन में निकाली 100...
spot_img

आज़ादी के अमृत महोत्सव पर गाजियाबाद के शालीमार गार्डन में निकाली 100 फुट लंबे तिरंगे की शोभा यात्रा

भारत की आजादी की 75वीं वर्षगांठ पर स्वतंत्र दिवस के उपलक्ष में भाजपा नेता पवन रेड्डी एवं क्रांतिकारी स्मृति आयोजन समिति ने समस्त आरडब्ल्यूए के साथ साहिबाबाद के शालीमार गार्डन बी ब्लॉक में विशाल तिरंगा शोभायात्रा निकाली गयी। यह यात्रा शालीमार गार्डन बी-ब्लॉक चंद्रशेखर आजाद पार्क से प्रारंभ हो कर शालीमार गार्डन बी-ब्लॉक, गणेशपुरी व शालीमार गार्डन सी-ब्लॉक के विभिन्न इलाकों से होते हुए महावीर पार्क पहुंची जहां इस शोभा यात्रा का समापन किया गया।

वैसे तो स्वतंत्रता दिवस के उपलक्ष में निकाली जाने वाली प्रत्येक यात्रा या कार्यक्रम विशेष होता है लेकिन इस यात्रा का विशेष आकर्षण 100 फीट लम्बा तिरंगा था। शोभा यात्रा में शामिल स्थानीय लोगों ने 100 फीट लम्बे तिरंगे को अपने हाथों से लहराते हुए मानव श्रृंखला बना दी जिसमें सभी धर्म और जाति के लोगों ने अपना योगदान दिया और भाईचारे की मिसाल दी।

शहीदों को किया गया याद
शोभा यात्रा पूरी होने के बाद जनसभा में तब्दील हो गयी।जनसभा में वक्ताओं ने उपस्थित नागरिकों को संबोधित करते हुए देश की आजादी में शहीदों व स्वतंत्रता सेनानियों के त्याग पर प्रकाश डालते हुए आजादी के बाद देश की हुई तरक़्क़ी का बखान किया। देश की आजादी कड़े संघर्ष के बाद मिली है।तिरंगे की रक्षा के लिए कोई भी कुर्बानी की नौबत आये तो पीछे नहीं हटने की बात कही।

पवन रेड्डी ने आजादी के अमृत महोत्सव पर कहा कि “किसी भी देश का भविष्य तभी उज्ज्वल होता है जब वह अपने पिछले अनुभवों और विरासत के गौरव के साथ पल-पल जुड़ा रहता है। हम सभी जानते हैं कि भारत के पास एक समृद्ध ऐतिहासिक चेतना और सांस्कृतिक विरासत का एक अथाह भंडार है जिस पर हमें गर्व होना चाहिए।

रेड्डी ने कहा “भारत के प्रधानमंत्री ने स्वतंत्र और प्रगतिशील भारत, इसकी विविध आबादी और इसके समृद्ध इतिहास के 75 गौरवशाली वर्षों का जश्न मनाने के लिए “भारत की आजादी के अमृत महोत्सव” की पहल शुरू की। इस पहल (आज़ादी का अमृत महोत्सव) को शुरू करने के पीछे का विचार युवा पीढ़ी को स्वतंत्रता सेनानियों के बलिदान के प्रति जागरूक करना और उन्हें श्रद्धांजलि देना है।

यह पहल उन्हें उन महापुरूषों के सपनों को जानने में मदद करेगी जिन्होंने न केवल आजादी के लिए लड़ाई लड़ी बल्कि इसके लिए अपने बहुमूल्य जीवन का बलिदान भी दिया।

पवन रेड्डी ने आगे कहा “यह महोत्सव भारत के उन सभी स्वतंत्रता सेनानियों को समर्पित है जिन्होंने भारत को अंग्रेजों से मुक्त कराने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है। इस अभियान के पीछे एक और मकसद भारत को आत्मनिर्भर बनाना है।”

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

Recent Comments

error: Content is protected !!