Thursday, June 20, 2024
Homeदेश5जी तकनीक भारतीय अर्थव्यवस्था में 450 अरब डॉलर का योगदान देगी, इस...
spot_img

5जी तकनीक भारतीय अर्थव्यवस्था में 450 अरब डॉलर का योगदान देगी, इस दशक के अंत तक देश में हो सकता 6G लॉन्च : पीएम मोदी

नई दिल्ली, 17 मई : प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी ने मंगलवार को देश की प्रगति में दूरसंचार क्षेत्र की भूमिका पर प्रकाश डालते हुए कहा कि 5G तकनीक भारतीय अर्थव्यवस्था में 450 बिलियन अमरीकी डालर का योगदान देगी, साथ ही उन्होंने कहा की इस दशक के अंत तक देश 6G सेवाएं लॉन्च करने में सक्षम होगा। उन्होंने कहा अनुमान है “5G भारतीय अर्थव्यवस्था में 450 बिलियन अमरीकी डालर का योगदान देगा। इससे न केवल इंटरनेट की गति में तेजी आएगी बल्कि विकास और रोजगार को भी बढ़ावा देते हैं।”


भारतीय दूरसंचार नियामक प्राधिकरण (TRAI) के रजत जयंती समारोह पर पीएम मोदी ने IIT मद्रास के नेतृत्व में कुल आठ संस्थानों द्वारा एक बहु-संस्थान सहयोगी परियोजना के रूप में विकसित 5G टेस्ट बेड का शुभारंभ किया। समारोह को संबोधित करते हुए, प्रधान मंत्री मोदी ने कहा, “इस दशक के अंत तक हम 6जी सेवाएं शुरू करने में सक्षम होंगे, हमारी टास्क फोर्स इस पर काम कर रही है। हमारे प्रयासों से हमारे स्टार्टअप्स को टेलीकॉम सेक्टर और 5जी टेक्नोलॉजी में ग्लोबल चैंपियन बनने में मदद मिलेगी।” 


मोदी ने कहा “5G टेस्ट बेड दूरसंचार क्षेत्र में महत्वपूर्ण और आधुनिक तकनीक पर देश की आत्मनिर्भरता की दिशा में एक महत्वपूर्ण कदम है। 5G तकनीक देश के शासन, जीवन में आसानी और व्यापार करने में आसानी में भी सकारात्मक बदलाव लाने जा रही है। इससे कृषि, स्वास्थ्य, शिक्षा, बुनियादी ढांचे और रसद सहित हर क्षेत्र में विकास को बढ़ावा मिलेगा। इससे रोजगार के कई अवसर भी पैदा होंगे।”


उन्होंने कहा कि 21वीं सदी में भारत देश की प्रगति की गति तय करेगा। उन्होंने हर स्तर पर कनेक्टिविटी के आधुनिकीकरण पर जोर दिया। पीएम मोदी ने आगे कहा कि आज देश के हर गांव को ऑप्टिकल फाइबर से जोड़ा जा रहा है। 


प्रधानमंत्री ने कहा “2014 से पहले, भारत में 100 ग्राम पंचायतें भी ऑप्टिकल फाइबर कनेक्टिविटी से नहीं जुड़ी थीं। आज ब्रॉडबैंड कनेक्टिविटी लगभग 2.5 लाख ग्राम पंचायतों तक पहुंच गई है। सबसे गरीब परिवारों के लिए मोबाइल फोन को सुलभ बनाने के लिए, हमने देश में ही मोबाइल के निर्माण पर जोर दिया है। इसका परिणाम यह हुआ कि मोबाइल निर्माण इकाइयां 2 से बढ़कर 200 से अधिक हो गईं,”।


प्रधान मंत्री ने कहा कि “भारत टेलीडेंसिटी और इंटरनेट उपयोगकर्ताओं के मामले में दुनिया में सबसे तेजी से विस्तार करने वाला देश है। अब देश साइलो की सोच से आगे बढ़कर ‘संपूर्ण सरकार’ के दृष्टिकोण के साथ आगे बढ़ रहा है। पिछले आठ वर्षों में, हमने रीच, रिफॉर्म, रेगुलेट, रिस्पॉन्स की पंचामृत के साथ दूरसंचार क्षेत्र में नई ऊर्जा का संचार किया है। ट्राई ने इसमें बहुत महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है।”

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

Recent Comments

error: Content is protected !!