Thursday, June 20, 2024
Homeराज्यदिल्लीदिल्लीः भजनपुरा में सड़क से हटाए गए मंदिर और मजार, तोड़ने से...
spot_img

दिल्लीः भजनपुरा में सड़क से हटाए गए मंदिर और मजार, तोड़ने से पहले डीसीपी ने धार्मिक स्थल पर जोड़े हाथ, मंत्री आतिशी ने एलजी को घेरा

दिल्ली के भजनपुरा की मुख्य सड़क पर रविवार सुबह लोक निर्माण विभाग (PWD) द्वारा ने रविवार को कार्यवाही करते हुए इलाक़े में अवैध जमीन पर बनी मंदिर और दरगाह पर बुलडोजर चलाने की कार्रवाई की गई।

इस दौरान भारी संख्या में सुरक्षाबल को तैनात किया गया। इस दौरान इलाके की ड्रोन से निगरानी की गई। प्रशासन ने आम जनता के सहयोग की अपील थी। यहां से सबसे पहले दरगाह को हटाया गया और फिर मंदिर को हटाने की कार्रवाई हुई। जिस जगह पर ये कार्रवाई हुई, उसे वजीराबाद रोड के नाम से भी जाना जाता है। इनकी वजह से अक्सर चौराहे पर जाम लगता था। मामले की गंभीरता को देखते दिल्ली पुलिस के अलावा केंद्रीय बलों के जवान भी यहां तैनात थे। पुलिस ने लोगों से अपील करते हुए कहा कि वह शांति बनाए रखें। दरअसल ये मजार सड़क के बीचों बीच थी, जिसकी वजह से जाम लगता था। इसके नजदीक ही हनुमान मंदिर भी था। बुलडोजर के जरिए दरगाह और मंदिर को शांतिपूर्वक हटा दिया गया। इस दौरान किसी तरह के विवाद की बात सामने नहीं आई है।

https://twitter.com/AHindinews/status/1675332457800036353?t=m0A-VaFQku6-HIWCxT8L0Q&s=19

उत्तर-पूर्व दिल्ली के डीसीपी जॉय एन टिर्की ने कहा, ‘भजनपुरा चौक पर तोड़फोड़ अभियान शांतिपूर्वक चल रहा है। दिल्ली की धार्मिक समिति द्वारा सहारनपुर राजमार्ग के लिए सड़क को और चौड़ा करने के लिए एक हनुमान मंदिर और एक मजार को हटाने का निर्णय लिया गया था दोनों संरचनाओं को शांतिपूर्वक हटा दिया गया है।’

वहीं इस कार्रवाई को लेकर आम आदमी पार्टी (आप) ने उपराज्यपाल वी.के. सक्सेना पर निशाना साधा है। पीडब्ल्यूडी मंत्री आतिशी ने ट्वीट किया, ‘एलजी साहब: मैंने कुछ दिनों पहले आपसे पत्र लिख कर अनुरोध किया था कि दिल्ली में मंदिरों एवं अन्य धार्मिक स्थलों को तोड़ने का जो आपका निर्णय, वो आप वापस ले लें। परंतु आज फिर से आपके आदेश पर भजनपुरा में एक मंदिर तोड़ दिया गया है।’ इसके साथ ही उन्होंने कहा, ‘मेरा आपसे पुनः निवेदन है कि दिल्ली में मंदिरों एवं अन्य धार्मिक स्थलों को ना तोड़ा जाए। इनसे लोगों की आस्था जुड़ी है।’

ट्वीट के साथ आतिशी ने 22 जून को उपराज्यपाल को लिखे गए अपने पत्र को भी साझा किया है। आतिशी ने उपराज्यपाल को लिखे पत्र में कहा है, ‘लोगों की आस्था मंदिरों और अन्य धार्मिक संरचनाओं से जुड़ी हुई है। इसलिए मैं आपसे 11 मंदिरों और तीन मजारों को ध्वस्त करने के इस फैसले को वापस लेने का आग्रह करती हूं, ताकि लोगों की धार्मिक भावनाएं आहत न हों।’

आतिशी ने कहा कि उन्हें पीडब्ल्यूडी अधिकारियों ने बताया है कि साल की शुरुआत में जब इन 14 धार्मिक संरचनाओं को ध्वस्त करने की फाइल धार्मिक समिति के माध्यम से राज्य के तत्कालीन गृहमंत्री मनीष सिसोदिया के पास आई थी, तो उन्होंने इसका विरोध करते हुए कहा था कि परियोजनाओं के नक्शे बदले जाने चाहिए। पीडब्ल्यूडी मंत्री ने लिखा है, ‘लेकिन जब यह फ़ाइल मनीष सिसोदिया की ओर से आपके पास आई तो आपने उनके प्रस्ताव को अस्वीकार कर दिया और निर्देश दिया कि धार्मिक संरचनाओं को ध्वस्त कर दिया जाना चाहिए।’

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

Recent Comments

error: Content is protected !!