Sunday, May 26, 2024
Home Blog

भाजपा नेता के पिता से टप्पेबाजी, टप्पेबाजों ने उड़ाई लाखों रुपए की ज्वैलरी

0

गाजियाबाद भाजपा नेता प्रतीक माथुर के पिता से शुक्रवार सुबह 11:30 से 12:00 बजे के बीच टप्पेबाजों ने तकरीबन 8 लाख रुपए की ज्वेलरी से भरा बैग उड़ा लिया। यह घटना उस वक्त हुई जब प्रतीक माथुर के पिता बैंक से ज्वैलरी निकलकर ई रिक्शा से वापस अपने घर जा रहे थे।

गाजियाबाद के शालीमार गार्डन एक्सटेंशन 1 में प्रतीक माथुर अपने परिवार के साथ रहते हैं। प्रतीक माथुर भाजपा और राष्ट्रिय व्यापार मंडल में मीडिया प्रभारी हैं। प्रतीक माथुर ने बताया कि उनके पिता विनोद माथुर शुक्रवार को सुबह शालीमार गार्डन एक्सटेंशन 1 स्तिथ सूर्या पार्क अपने निवासी स्थान से दिलशाद गार्डन बी ब्लॉक पंजाब नेशनल बैंक से ज्वैलरी निकालने के लिए गए थे।

बैंक से घर के बीच में हुई वारदात

विनोद माथुर ने शुक्रवार सुबह दिल्ली के दिलशाद गार्डन स्थित पंजाब नेशनल बैंक के लॉकर से ज्वैलरी निकाली और अपने साथ लाए थैले में ज्वैलरी रख कर बैंक से निकल गए। बैंक से कुछ ही कदम की दूरी से उन्होंने वापस अपने घर शालीमार गार्डन के लिए ई रिक्शा किया। आपको बता दें की बैंक से उनके घर की दूरी महज 4–5 किलोमीटर है। उन्होंने बताया कि रास्ते में दिलशाद कॉलोनी से एक महिला जिसके साथ एक 12 साल की बच्ची भी थी ई रिक्शा में आ कर बैठ गई। विनोद माथुर को शक है कि इसी महिला द्वारा उनके बैग से ज्वैलरी गायब की गई है।

घर आकर देखा तो गायब था ज्वैलरी वाला बैग

प्रतीक माथुर ने बताया कि जब उनके पिता ने घर आकर देखा तो थैले में ज्वैलरी वाला बैग नही था। इस घटना से पूरा परिवार परेशान है। गायब ज्वैलरी की कीमत तकरीबन 8 लाख रुपए बताई जा रही है। गाजियाबाद के शालीमार गार्डन और दिल्ली के दिलशाद गार्डन दोनों जगह पुलिस द्वारा तफ्तीश की जा रही है। फिलहाल अभी तक कोई सुराग नहीं मिला है। पुलिस द्वारा कठोर कार्यवाही करने का आश्वासन दिया है

Ghaziabad: GDA और बिल्डर के भ्रष्टाचार की भेट चढ़ी मासूम महिला, मौत के 7 दिन बाद भी नही लिखी गई FIR, क्या दबंग बिल्डर के आगे बेबस है योगी की पुलिस?

0

एक तरफ देश आजादी का अमृत महोत्सव मना रहा है। अगले महीने देश का 77वां स्वतंत्रता दिवस मनाया जायेगा। वहीं दूसरी तरफ देश की राजधानी दिल्ली से सटे हुए गाजियाबाद के साहिबाबाद में भू माफिया, स्थानीय नेता और पुलिस की सांठ–गांठ से एक मासूम पिछड़ा वर्ग की महिला मजदूर की मौत को इस कदर दबाया जा रहा है कि महिला की मौत के 7 दिन बीत जाने के बाद भी कोई रिपोर्ट दर्ज नहीं होती। महिला का पति इंसाफ के लिए दर–दर भटक रहा है लेकिन कोई उस गरीब की सुनने वाला नहीं है।

इस गरीब मजदूर की शायद इतनी गलती थी कि वह अपने परिवार को बेहतर जिंदगी देने के लिए अपने परिवार के साथ मध्यप्रदेश के छत्तरपुर से उत्तर प्रदेश के गाजियाबाद चला आया, इस गरीब इंसान की यह भी गलती रही कि उसने इस्तेहारों, बड़े–बड़े होर्डिंगो और देश के मुख्य न्यूज चैनलों द्वारा उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के विकास एवम सुशासन के नारे को ज्यादा गंभीरता से ले लिया। क्योंकि वह मजदूर नहीं जानता था कि सूबे के मुख्यमंत्री के नारे में से सुशासन शब्द का अर्थ गाजियाबाद पुलिस कमिश्नरेट के पुलिस अधीक्षक अजय मिश्रा के पुलिस अधिकारी नहीं जानते हैं। गाजियाबाद का प्रशासन इतना कठोर और संवेदनहीन हो चुका है कि उन्हें एक पिछड़ा वर्ग की गरीब महिला की लाश, गरीब के आंसू और उसके बच्चों की पीढ़ा नहीं दिखाई दे रही। या यह कहें कि गाजियाबाद में पुलिस भू माफिया और दबंगों के आगे बेबस है।

क्या है पूरा मामला?

राम दास कुशवाहा अपने परिवार के साथ गाजियाबाद के साहिबाबाद स्तिथ राजेंद्र नगर के सेक्टर पांच के बिल्डिंग नंबर 131 की ग्राउंड फ्लोर में पिछले पांच साल से रहता है। राम दास के परिवार में उनकी पत्नी भगवती (34) व दो बच्चों हैं। राम दास का बड़ा लड़का दिमागी रूप से कमजोर है। जिस कारण बच्चे की दवाएं, पढ़ाई–लिखाई और घर की जरुरत पूरी करने के लिए राम दास कुशवाह और उसकी पत्नी भगवती कुशवाह दोनों काम करते थे। राम दास जिस बिल्डिंग में रहता था उसी बिल्डिंग में चौकीदार की नौकरी करता था और उसकी पत्नी भगवती मजदूरी व बेलदारी का काम करती थी।

कुछ समय से भगवती कुशवाहा साहिबाबाद के ही गणेश पूरी स्तिथ प्लॉट नंबर सी–344 में मजदूरी का काम कर रही थी। आपकी जानकारी के लिए बता दें कि यह प्लॉट एक 50 गज का प्लॉट है जो की GDA से स्वीकृत नक्शे के विरुद्ध जाकर बिल्डर हेमराज बग्गा द्वारा बनवाया जा रहा है। करीब 3–4 महीने पहले तय सीमा से ज्यादा ऊंचा बनाने के कारण बिल्डिंग में क्रैक आ गया था और बिल्डिंग एक तरफ झुक गई थी जिसकी वजह से बड़ा हादसा भी हो सकता था। लेकिन बिल्डर द्वारा स्थानीय पुलिस व गाजियाबाद विकास प्राधिकरण (GDA) के अधिकारियों से मिलकर ऐसी सांठ–गांठ करी की जिस बिल्डिंग पर GDA के अधिकारियों और पुलिस विभाग को सख्त कार्यवाही करनी चाहिए थी उस बिल्डिंग को सील किया जाना चाहिए था उसको नजर अंदाज किया गया, जिसका भुगतान 2 बच्चों की मां को अपनी जान देकर चुकाना पड़ा।

राम दास ने बताया कि रोज की तरहां 17 जुलाई 2023 को भी उसकी पत्नी भगवती मजदूरी का काम करने गणेश पूरी की निर्माणधीन बिल्डिंग साइट सी–344 में गई थी। शाम 5:45 बजे साइट से मिस्ट्री रविंद्र का फोन आता है और वह कहता है कि “तुम्हारी घरवाली को लाईट लग गई (बिजली का करंट), GTB हॉस्पिटल आ जाओ”। आनन–फानन में राम दास GTB हॉस्पिटल दिलशाद गार्डन दिल्ली के लिए निकलता है तभी बिल्डिंग के मालिक हेमराज बग्गा का फोन आता है और बग्गा कहता है कि “तुम्हारी बीवी को करंट लग गया गिर कर मर गई GTB आ जाओ” बस इतना कहकर फोन काट देता है।

किसी तरहां राम दास कुशवाह अपने साले रत्न के साथ रत्न के e-riksaw से GTB हॉस्पिटल का पूछता पछता हॉस्पिटल पहुंचता है तो फिर से बिल्डिंग मालिक हेमराज बग्गा का फोन आता है इस बार बग्गा कहता है कि “तुम्हारी बीवी इमरजेंसी में है यहां आ जाओ”। जब राम दास GTB हॉस्पिटल के इमरजेंसी में जाता है तो देखता है कि उसकी पत्नी की लाश खून से लथपत स्ट्रेचर पर पड़ी है और स्ट्रचर के पास बिल्डिंग मालिक हेमराज बग्गा व मिस्ट्री रविंद्र खड़ा है।

आपकी जानकारी के लिए बता दें कि जिस जगह यह हादसा हुआ वह जगह उत्तर प्रदेश में आती है लेकिन फिर भी बिल्डिंग मालिक द्वारा जानें किस मंशा से महिला को 10–12 किलोमीटर दूर दिल्ली में भर्ती कराया गया जहां पर महिला को मृत घोषित कर दिया गया। बिल्डिंग मालिक द्वारा जान बूझ कर स्थानीय पुलिस स्टेशन या UP Dial 112 पुलिस हेल्पलाइन पर कॉल करके सूचना नहीं दी गई। बिल्डिंग मालिक द्वारा जानबूझ कर GTB हॉस्पिटल में लाश को लाने वाले व्यक्ति के बारे में जानकारी देने पर मृतका के भाई (राम दास के साले) रत्न का नाम और महीनों पहले बंद हो चुका मोबाइल नंबर लिखवाकर हॉस्पिटल को भी गुमराह किया गया। क्योंकि मृतका का भाई तो राम दास के साथ बिल्डिंग मालिक बग्गा और मिस्ट्री रविंद्र द्वारा GTB में लाश लाने के तकरीबन आधा घंटे बाद पहुंचा था।

बिल्डिंग मालिक हेमराज बग्गा द्वारा पहले तो मृतका के पति को GTB हॉस्पिटल में दस हजार रुपए लेकर चुपचाप अपनी पत्नी की लाश लेकर मध्य प्रदेश अपने गांव ले जाने का दवाब बनाया गया लेकिन जब राम दास नही माना और कानूनी तौर पर इस घटना की जांच कराने के लिय कहा तो बिल्डिंग मालिक हेमराज बग्गा और मिस्त्री रविंद्र अस्पताल से गायब हो गए।

इंडिया लाइव बुलेटिन द्वारा जब खबर को मुखरता से चलाया गया तो फिर एक दिन बाद 18 जुलाई 2023 को जनकपूरी के स्थानीय पार्षद और हेमराज बग्गा की तरफ से कुछ लोगों ने रामदास कुशवाहा को अपने पास बुलाया जहां रात 9 बजे तक हेमराज को एक लाख रुपए लेकर मामले को रफा–दफा करने के लिए दवाब बनाया गया साथ ही बात ना मानने पर उसको जेल करवाने और अंजाम भुगतने की धमकी दी गई। लेकिन रामदास कुशवाहा फिर भी ना पैसों के लालच न ही धमकी से डरा और वहां से निकल आया।

बेचारे रामदास को क्या पता था कि जिस गाजियाबाद पुलिस से वह निष्पक्ष जांच की उम्मीद कर रहा है वह निष्पक्ष जांच तो दूर रामदास की शिकायत भी नही लिखेगी। महिला की मौत के 7 दिन बीत चुके हैं मृतक महिला का पति इंसाफ के लिए दर–दर भटक रहा है। घटना के 24 घंटे बाद जब इंडिया लाइव बुलेटिन द्वारा शालीमार गार्डन थाना इंचार्ज SHO रवि शंकर पांडे से घटना के विषय में जानकारी लेनी चाही तो उनका कहना था कि उनके थाने में इस तरहां की कोई सूचना ही नही है।

हमारा सवाल गाजियाबाद पुलिस से है कि ऐसा कैसे मुमकिन है कि किसी रिहायशी इलाके के व्यस्त मोहल्ले में एक महिला दिन दहाड़े दूसरी मंजिल से गिर कर मर जाती है और वहां के बीट ऑफिसर, वहां के थाने को 24 घंटे बाद भी कोई जानकारी क्यों नहीं लगी?

भ्रष्टाचार की भेंट चढ़ी मासूम

साहिबाबाद के हिंडन पार इलाके में GDA की सांठ–गांठ से धड़ल्ले से नक्शे के विरुद्ध लेंटर पर लेंटर चढ़ रहे हैं। उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के दावों की कुछ अधिकारी खुलकर धज्जियां उड़ा रहे हैं। गाजियाबाद के साहिबाबाद क्षेत्र में जहां गाजियाबाद विकास प्राधिकरण को सख्त कार्यवाही करनी चाहिए वही सरकारी तंत्र को उलझाने के लिए अवैध निर्माण पर मुकदमा तो पंजीकृत कराया जाता है लेकिन उस पर कार्यवाही करने के नाम पर जेई और ए.ई समेत तमाम गाजियाबाद विकास प्राधिकरण (GDA) के कर्मचारी साफ तौर पर बचते नजर आते हैं।

ऐसी ही एक अवैध निर्माणधीन बिल्डिंग से 17 जुलाई 2023 को गिरकर 34 वर्षीय महिला की मौत हो जाती है। महिला की मौत का जितना जिम्मेदार उस अवैध निर्माणधीन बिल्डिंग को बनवा रहा बिल्डर है, उतना ही जिम्मेदार उस अवैध निर्माणधीन बिल्डिंग को NOC देने वाले गाजियाबाद विकास प्राधिकरण (GDA) के अधिकारी हैं, और विद्युत विभाग के अधिकारी भी है।

एक बार फिर सिस्टम से हार गई गरीबी

20 जुलाई 2023 को आखिरकार पूंजीपतियों, दबंगों और सिस्टम के नकारापन के सामने रामदास की हिम्मत जवाब दे गई उस व्यक्ति के पास इतना भी पैसा नही था कि वह अपनी पत्नी का पार्थिक शरीर अपने पैतृक गांव ले जा सके। जाते–जाते भी राम दास ने इस बेहरे हो चुके सिस्टम को अपनी आवाज सुनाने की बहुत कोशिश करी, लेकिन किसी ने रामदास की आवाज नहीं सुनी।

समाज सेवी और पेशे से वकील शिवानी गुप्ता जो लगातार इस घटना में रामदास की मदद कर रहीं हैं उन्होंने इंडिया लाइव बुलेटिन को बताया कि उनके द्वारा गाजियाबाद के भाजपा से सांसद जनरल वीके सिंह के आवास पर फोन करके एवम् साहिबाबाद विधायक सुनील शर्मा के कार्यालय पर जाकर भी सूचना दी लेकिन कहीं से कोई कार्यवाही नहीं हुई। अंत में 20 जुलाई को रामदास सिस्टम की उदासीनता से हार कर अपनी पत्नी के पार्थिक शरीर को लेकर अपने पैतृक गांव मध्यप्रदेश के छतरपुर चला गया।

महादेव परगना रावल ब्राह्मण समाज के निर्विरोध अध्यक्ष बने उलारिया धाम के गादीपति

0

सुमेरपुर । रावल ब्राह्मण समाज महादेव परगना के 42 गांवो की जनरल बैठक श्री सार्दुलसिंह जी उलारिया धाम के गादीपति जगदीश जी रावल के मुख्य आथित्य में बैठक का आयोजन किया गया। जहां पर बैठक तखतगढ़ में स्थित श्री सार्दुल सिंह जी उलारिया धाम मंदिर परिसर में समस्त महादेव परगना के रावल ब्राह्मण समाज के सभी सोवटियो व समाज बंधुओं की बैठक आयोजित कर पूर्व की कमेटी द्वारा अपना कार्यकाल पूरा होने को लेकर बैठक में इस्तीफा देने के बाद जाजम पर उपस्थित सभी समाज बंधुओं में श्री सार्दुल सिंह जी बावजी के गादीपति जगदीश जी रावल ने बडे ही धैर्य और सहशिलता के साथ आपसी भ्रम को खत्म कर परगना के आम समाज बंधुओ में एक तरह नई उमंग व उत्साह को प्रोत्साहित किया। बैठक में सभी समाज बंधुओं द्वारा एक राय होते हुए रावल ब्राह्मण समाज को आगे बढ़ाने व समाज उत्थान को लेकर 42 गांव के महादेव परगना के अध्यक्ष की जिम्मेदारी बावजी के गादीपति को संभालने का अनुरोध किया गया। जिस पर श्री सार्दुसिंह जी बावसी की आज्ञा से समाज के परगने के अध्यक्ष पद की जिम्मेदारी ली गई। जहां पर समस्त समाज बंधुओं ने माला पहनाकर स्वागत करते हुए जनरल बैठक का माहौल बहुत ही सुंदरता एवं खुशी से छलक उठा।

सादुल सिंह जी बावसी के उपासक के महादेव परगना के अध्यक्ष बनने पर समाज बंधुओं ने किया स्वागत।

परगना में सामुहिक विवाह एवं विभिन्न सामाजिक कार्यक्रम को आगे बढ़ाने का रखा प्रस्ताव

शुरुआती बैठक में ही गादीपति जगदीश जी रावल द्वारा समाज को नई दिशा देने व सामूहिक विवाह सहित विभिन्न सामाजिक कार्यक्रम आयोजित करवाने की बात कही थी, तत्पश्चात जैसे ही समाज बंधुओं ने अध्यक्ष पद की जिम्मेदारी देने के बाद उन्होंने परगने की गति विधियों पर साथ निभाने का आश्वासन दिया । गुड़ा भवन के विकास, तखतगढ़ भवन निर्माण और आपसी समाजस से आगे समूह लग्न के प्रस्ताव को आगे बढ़ाने का प्रयास करने का आश्वासन दिया । परगना में एकता और भाईचारे के लिए सभी ने बेहतरीन सहयोग और समर्पित भाव से कार्य करने की बात भी कही। वही जनरल बैठक में सैकड़ों की तादाद में समाज बंधु उपस्थित रहे।

श्री राम की नगरी अयोध्या होगी शराब मुक्त, आबकारी मंत्री ने किया बड़ा ऐलान

0

जनवरी महीने में अयोध्या में भगवान श्री राम की प्राण प्रतिष्ठा का भव्य समारोह होने जा रहा है। देश से कई बड़े दिग्गजों नेताओं से लेकर अभिनेताओं का समारोह में आगमन होगा। प्राण प्रतिष्ठा की तैयारियों के बीच अयोध्या से बड़ी खबर सामने आई है।

इस खबर के अनुसार श्रीराम नगर में 84 कोस की परिधि में शराब की बिक्री पर पूर्ण रूप से प्रतिबंधित लगाने की तैयारी चल रही है। उम्मीद है कि जल्द ही रामनगरी को मदिरा मुक्त घोषित किया जा सकता। यूपी सरकार के आबकारी मंत्री नितिन अग्रवाल ने मीडिया को जानकारी देते हुए बताया कि राम नगरी में 84 कोस की परिधि में आने वाली सभी शराब की दुकानों को हटाया जायेगा।

हालांकि राम मंदिर क्षेत्र में पहले से ही मांस मदिरा पर प्रतिबंध है। अब 84 कोस की परिक्रमा मार्ग पर भी यह प्रतिबंध लागू होगा। अयोध्या में रामलला की प्राण प्रतिष्ठा की तैयारियां जोरों से चल रही है ऐसे में यह खबर राम भक्तों के लिए सुखद एहसास है।

Ghaziabad: डीएम के आदेश को ठेंगा दिखाते जिले के स्कूल, आदेश के बाद भी नहीं बदला स्कूलों का समय

0

गाजियाबाद : जिले के स्कूलों द्वारा जिलाधिकारी कार्यालय के आदेश को ठेंगा दिखाया जा रहा है। कड़ाके की ठंड, कोहरे और शीतलहर के चलते गाजियाबाद के जिलाधिकारी द्वारा जिले के सभी स्कूलों के कक्षा 1 से 8 तक का समय प्रातः 10:00 बजे से दोपहर 3 बजे तक परिवर्तित किया गया है। इसके लिए बेसिक शिक्षा अधिकारी कार्यालय से जिले के सभी स्कूलों को कड़ाई से आदेश पालन करने का सर्कुलर भी जारी हुआ है इसके बावजूद अधिकतर स्कूल प्रबंधक डीएम के आदेश को गंभीरता से नहीं ले रहे हैं और बच्चों के स्वास्थ्य के साथ खिलवाड़ कर रहे हैं।

गाजियाबाद जिला अधिकारी के आदेश

कड़ाके की ठंड, कोहरे और शीत लहर के बीच सुबह के वक्त स्कूल में बच्चे आ रहे हैं जो समय पहले था आज भी इस समय पर बच्चे स्कूल आने पर मजबूर हैं। जबकि जिलाधिकारी कार्यालय से आदेश जारी किया गया है की ठंड और शीतलहर कोहरे को देखते हुए स्कूलों की समय में परिवर्तन किया गया है। जो स्कूल सुबह से लगते थे अब वह 10:00 बजे से 3:00 बजे तक लगेंगे ताकि ठंड से किसी बच्चे के स्वास्थ्य पर प्रभाव न पड़े और कोहरे की वजह से कोई स्कूल बस का हादसा ना हो मगर स्कूलों द्वारा डीएम के आदेश का पालन न करना गाजियाबाद में डीएम दफ्तर के आदेश की सरासर अवहेलना है।

Women Reservation Bill Update: 2024 की जनगणना के बाद लागू किया जाएगा कानून – केंद्रीय मंत्री निर्मला सीतारमण

0

महिला आरक्षण कानून पर केंद्रीय वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने बड़ा अपडेट दिया है। निर्मला सीतारमण ने कहा कि केंद्र 2024 की जनगणना के बाद महिला आरक्षण कानून लागू करने के लिए कदम उठाएगा।

दक्षिण कन्नड़ जिले के मूडबिदरी में शुक्रवार को रानी अब्बक्का के नाम पर स्मारक डाक टिकट जारी करने के बाद सीतारमण ने कहा कि महिला आरक्षण विधेयक हकीकत बन गया है क्योंकि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने राष्ट्र निर्माण में महिलाओं की भूमिका पर हमेशा यकीन जताया है।

पुर्तगाली शासन के खिलाफ लड़ने वाली उल्लाल की 16वीं सदी की रानी अब्बक्का के साहस और वीरता की सराहना करते हुए सीतारमण ने कहा कि केंद्र सरकार ने शाही ताकतों के खिलाफ लड़ने वाले गुमनाम सेनानियों के योगदान को पहचान देने के लिए कदम उठाए हैं।

उन्होंने कहा कि ‘आजादी का अमृत महोत्सव’ के तौर पर सरकार ने 14,500 कहानियों का एक डिजिटल जिला कोष बनाया है जिसमें स्वतंत्रता संघर्ष से जुड़े स्थानों का जिक्र है।

वित्त मंत्री ने उम्मीद जतायी कि तटीय कर्नाटक में रानी अब्बक्का के नाम पर एक सैनिक स्कूल खोला जाएगा। उन्होंने स्मारक डाक टिकट के वास्ते इस्तेमाल किए गए रानी अब्बक्का के चित्र के लिए कलाकार वासुदेव कामत को बधाई दी।

गाजियाबाद नगर निगम क्षेत्र का बढ़ने जा रहा है दायरा, कागजी कार्रवाई हुई पूरी, इन इलाकों को होगा फायदा

0

दिल्ली से सटे गाजियाबाद में रहने वाले लोगों के लिए बड़ी खुशखबरी है। जल्द ही गाजियाबाद नगर निगम क्षेत्र का दायरा बढ़ने वाला है। इसको लेकर नक्शा भी तैयार हो गया है। खोड़ा और लोनी के साथ कनावनी को भी गाजियाबाद नगर निगम में शामिल किया जाएगा।

इसके लिए प्रशासन की ओर से कागजी कार्रवाई पूरी कर ली गई है। अब तैयार नक्शों को मंडलायुक्त के पास भेजा जाएगा। उनकी सहमित के बाद इसे शासन को भेज दिया जाएगा।

जानकारी के अनुसार, पिछले माह नमो भारत ट्रेन के उद्घाटन से पहले इसका निरीक्षण करने पहुंचे मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से साहिबाबाद विधायक सुनील शर्मा और लोनी विधायक नंद किशोर गुर्जर ने दोनों क्षेत्रों को नगर निगम में शामिल करने की मांग की थी।

इसके बाद मुख्यमंत्री से जिलाधिकारी से इसका प्रस्ताव तैयार करके शासन को भेजने के निर्देश दिए थे। इसी कड़ी में जिला प्रशासन नक्शा तैयार करा रहा था।

दोनों नगर पालिकओं के साथ गौतमबुद्ध नगर में आने वाले कनावनी क्षेत्र को भी नगर निगम में शामिल करने का प्रस्ताव तैयार किया गया है। कनावनी अभी तक गाजियाबाद में रहते हुए भी दस्तावेजों में गौतमबुद्धनगर का गांव है।

इन तीनों को नगर निगम में शामिल करने का कागजी दस्तावेज तैयार करने के बाद नक्शा तैयार कर लिया गया है। अब इस नक्शे को मंडलायुक्त के माध्यम से शासन को भेजा जाएगा।

जोन की संख्या भी बढ़ेगी अभी तक नगर निगम पांच जोन में विभाजित है। सभी वार्डों में विकास जोन के अनुसार होता है। लोनी, खोडा के शामिल होने के बाद नगर निगम का क्षेत्रफल बढ़ जाएगा। ऐसे में जोन को संख्या भी बढ़ानी होगी। जोन के अनुसार की विकास के कार्य और टैक्स की वसूली होगी। विस्तार होने के बाद दो से तीन जोन भी बनेंगे।

नगर निगम में हो सकते हैं 200 वार्ड-

जिला प्रशासन ने खोड़ा मकनपुर नगर पालिका और लोनी नगर पालिका परिषद को गाजियाबाद नगर निगम में शामिल करने का प्रस्ताव तैयार कर लिया है। खोड़ा मकनपुर नगर पालिका एरिया में 34 और लोनी नगर पालिका परिषद में 55 वॉर्ड हैं।

गाजियाबाद नगर निगम में वॉर्ड 100 हैं। कनावनी समेत इन तीनों क्षेत्रों का गाजियाबाद नगर निगम में विलय होने के बाद यहां के वार्डों की संख्या 200 तक पहुंच सकती है। फिलहाल तीनों निकायों का सर्वे डेटा तैयार करा लिया गया है।

संसद हमले की बरसी पर सुरक्षा में फिर चूक: 22 साल बाद फिर संसद की सुरक्षा पर उठे सवाल जानें क्या है पूरा मामला

0

संसद पर हमले की 22वीं बरसी पर आज संसद भवन की सुरक्षा में बड़ी चूक का मामला सामने आया है। गौरतलब है, कि आज ही के दिन 22 साल पहले 13 दिसंबर 2001 में भी पुरानी संसद पर एक बड़ा आंतकी हमला हुआ था।

संसद की सुरक्षा में बुधवार को हुई सेंधमारी की घटना में शामिल छह में से पांच आरोपियों को पकड़ लिया गया है। पुलिस सूत्रों ने यह जानकारी दी। पुलिस के अनुसार अच्छी तरह से समन्वित, सावधानीपूर्वक रची गई साज़िश के जरिए छह आरोपियों ने संसद की सुरक्षा में सेंध लगाई।

दरअसल, बुधवार को संसद के शीतकालीन सत्र के दौरान दोपहर को 2 युवक अचानक से सांसद गैलरी में कूद गए और लोकसभा में सांसदों तक पहुंच गए। इतना ही नहीं दोनों स्पीकर की ओर बेंच पर चढ़कर दौड़ने लगे। इसके चलते सदन में अफरातफरी मच गई। बुधवार दोपहर संसद का सत्र चल रहा था। यह हादसा तब हुआ जब भाजपा के खगेन मुर्मू लोकसभा में बोल रहे थे।

पुलिस सूत्रों ने बताया कि आरोपी अमोल शिंदे और नीलम को संसद भवन के बाहर से पकड़ा गया, जबकि सागर शर्मा और मनोरंजन डी को लोकसभा के अंदर से पकड़ा गया। ये पुलिस की हिरासत में हैं। पुलिस को संदेह है कि उनके दो और साथी ललित और विशाल भी हैं। सूत्रों ने बताया कि विशाल को गुरुग्राम से हिरासत में लिया गया है, जबकि ललित को पकड़ने के लिए दिल्ली पुलिस के दलों को विभिन्न स्थानों पर भेजा गया है।
सागर शर्मा और मनोरंजन डी शून्यकाल के दौरान दर्शक दीर्घा से लोकसभा में कूद गए और उन्होंने ‘केन’ से पीली गैस को फैलाते हुए नारेबाज़ी की। हालांकि सांसदों ने उन्हें पकड़ लिया।



लगभग उसी समय संसद भवन के बाहर अमोल शिंदे और नीलम ने केन से लाल और पीले रंग का धुआं फैलाते हुए ‘तानाशाही नहीं चलेगी’ आदि नारे लगाए। पुलिस सूत्रों ने कहा कि छह लोगों ने साज़िश रचकर और अच्छी तरह से किए गए समन्वय के जरिए घटना को अंजाम दिया और ये सभी इंस्टाग्राम और अन्य सोशल मीडिया मंचों के जरिए एक-दूसरे के संपर्क में थे, जहां उन्होंने साज़िश रची थी।

उन्होंने बताया कि आरोपियों ने कुछ दिन पहले साज़िश रची थी और बुधवार को संसद आने से पहले उन्होंने पूरी जानकारी भी ली थी। सूत्र ने कहा, ‘उनमें से पांच लोग संसद में आने से पहले गुरुग्राम में विशाल के आवास पर रुके थे। साज़िश के अनुसार, सभी छह संसद के अंदर जाना चाहते थे, लेकिन केवल दो को ही पास मिला।’

अमोल शिंदे से पूछताछ में पता चला कि छह आरोपी एक-दूसरे को पिछले चार साल से सोशल मीडिया के जरिए जानते थे। पुलिस के एक सूत्र ने कहा, “उनकी विचारधारा एक थी और इसलिए उन्होंने सरकार को संदेश देने का फैसला किया। सुरक्षा एजेंसियां यह पता लगाने की कोशिश कर रही हैं कि क्या इन्हें किसी व्यक्ति या किसी संगठन ने निर्देश दिया था।”

उनके मुताबिक, “ पूछताछ में अमोल ने बताया कि वे किसान आंदोलन, मणिपुर संकट, बेरोजगारी जैसे मुद्दों से परेशान थे, इसलिए उन्होंने यह कदम उठाया।”

फरीदनगर एकता क्रिकेट टूर्नामेंट का हुआ शुभारंभ, देववृत धामा ने फीता काटकर किया टूर्नामेंट का शुभारंभ

0

उत्तर प्रदेश के फरीदनगर में फरीदनगर एकता क्रिकेट टूर्नामेंट का उद्घाटन समाजवादी पार्टी के विधानसभा अध्यक्ष व भारतीय किसान यूनियन इंडिया के युवा राष्ट्रीय अध्यक्ष देववृत धामा के द्वारा किया गया।

देववृत धामा के मैदान पहुंचने पर आयोजकों व तमाम जनता ने फूल मालाओं, ढोल व नारों के साथ उनका स्वागत किया। धामा ने सिक्का उछाल कर टॉस किया व फीता काटकर टूर्नामेंट का उद्घाटन किया, देववृत धामा के साथ नदीम भोजपुर, जावेद तोड़ी, डॉ. सोहनवीर कलछीना, मनजीत नेहरा, सामी आदि समाजवादी नेता उपस्थित रहे।

आयोजक फरीदनगर एकता क्रिकेट कमेटी के सदस्य फिरोज, आकिब अंसारी, समी कुरैशी, भोलू, जुनेद आदि ने देवव्रत धामा की कयाक्रम स्थल पर उपस्थित पाकर खुशी का इजहार करते हुए धन्यवाद किया व खिलाड़ियों की हौसला अफजाई के लिए टूर्नामेंट के समापन वाले दिन भी उपस्थित रहने की अपील की।

आज 6 गांवों की टीमों के 3 मैच थे, देववृत धामा ने भी सभी गांव के लोगों से वादा किया की जैसे अब तक जब भी उन्हें जरूरत पड़ी है वह उपस्थित हुए हैं वैसे ही आगे भी वह खड़े मिलेंगे।

दिल्ली की हवा में फिर घुला जहर, गैस चैंबर में तब्दील हुई देश की राजधानी, जानें आज का एक्यूआई

0

देश की राजधानी दिल्ली में वायु प्रदूषण खत्म होने का नाम नहीं ले रहा है। दिवाली के त्यौहार के बाद से लगातार प्रदूषण का स्तर बढ़ रहा है। लोगों को सांस लेने तक में परेशानी हो रही है। दिवाली के एक दिन पहले दिल्ली में वायु गुणवत्ता सूचकांक (AQI) घटकर 300 के नीचे पहुंच गया था, जो एक बार फिर से बढ़कर 400 के पार चला गया है।

दिल्ली में अभी भी ग्रेडेड रेस्पॉन्स ऐक्शन प्लान (GRAP) ग्रैप-4 की पाबंदियां लागू हैं। राष्ट्रीय राजधानी में तमाम पाबंदियों के बाद भी दिवाली पर हुई आतिशबाजी के बाद प्रदूषण का स्तर बढ़कर गंभीर श्रेणी तक पहुंच गया है। दिल्ली से साथ-साथ नोएडा और एनसीआर के अन्य इलाकों का भी यही हाल है।

केंद्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड (सीपीसीबी) के अनुसार, दिल्ली भर में वायु गुणवत्ता ‘गंभीर’ श्रेणी में बनी हुई है। आनंद विहार में एक्यूआई 430, आरके पुरम में 417, पंजाबी बाग में 423 और जहांगीरपुरी में 428 रहा।

मौसम विभाग (आईएमडी) के पूर्वानुमान के मुताबिक, दिल्ली, नोएडा, गुरुग्राम, फरीदाबाद समेत एनसीआर के कई इलाकों में अगले 5 दिन मौसम सामान्य रहेगा। ऐसे में जब तक बारिश या तेज हवाएं नहीं चलेंगी तब तक प्रदूषण से राहत की उम्मीद नहीं है।

बता दें कि शून्य से 50 के बीच AQI अच्छा, 51 से 100 के बीच ‘संतोषजनक’, 101 से 200 के बीच ‘मध्यम’, 201 से 300 के बीच ‘खराब’, 301 से 400 के बीच ‘बहुत खराब’ और 401 से 500 के बीच AQI ‘गंभीर’ माना जाता है।

पीयूष गोयल ने अमेरिका में टेस्ला फैक्ट्री का किया दौरा किया, एलन मस्क ने अपनी अनुपस्थिति के लिए जताया खेद

0

केंद्रीय वाणिज्य मंत्री पीयूष गोयल ने मंगलवार को टेस्ला की कैलिफोर्निया विनिर्माण फैक्ट्री का दौरा किया। हालांकि, गोयल और इलेक्ट्रिक वाहन निर्माता के प्रमुख एलोन मस्क के बीच बहुप्रतीक्षित मुलाकात नहीं हुई। गोयल ने फ़्रेमोंट, कैलिफ़ोर्निया में टेस्ला की विनिर्माण सुविधा का दौरा करने के बाद एक्स पर लिखा, “प्रतिभाशाली भारतीय इंजीनियरों और वित्त पेशेवरों को वरिष्ठ पदों पर काम करते हुए और गतिशीलता को बदलने के लिए टेस्ला की उल्लेखनीय यात्रा में योगदान करते हुए देखकर बेहद खुशी हुई।”

केंद्रीय मंत्री ने टेस्ला ईवी आपूर्ति श्रृंखला में भारत से ऑटो कंपोनेंट आपूर्तिकर्ताओं के बढ़ते महत्व की सराहना की। उन्होंने लिखा, “यह भारत से अपने घटकों के आयात को दोगुना करने की राह पर है।” पीयूष गोयल इंडो-पैसिफिक इकोनॉमिक फ्रेमवर्क और एशिया-पैसिफिक इकोनॉमिक कोऑपरेशन की मंत्रिस्तरीय बैठकों में भाग लेने के लिए सैन फ्रांसिस्को में हैं।

टेस्ला के मुख्य कार्यकारी अधिकारी मस्क के भारत में कारखाना स्थापित करने की कंपनी की योजना पर चर्चा के लिए गोयल से मिलने की संभावना थी। गोयल ने लिखा, “एलोन मस्क के मैग्नेटिक प्रजेंस को याद किया और मैं उनके शीघ्र स्वस्थ होने की कामना करता हूं।” इसके जवाब में मस्क ने ट्वीट किया, “आपका टेस्ला आना सम्मान की बात थी! आज कैलिफ़ोर्निया की यात्रा नहीं कर पाने के लिए मुझे खेद है, लेकिन मैं भविष्य की किसी तारीख़ पर मिलने की आशा रखता हूं।”

गौरतलब है कि सरकार पांच साल तक की अवधि के लिए ईवी की पूरी तरह से निर्मित इकाइयों के आयात पर कर कटौती की पेशकश करने की योजना बना रही है। इसे टेस्ला इंक जैसी कंपनियों को देश में अपनी कारें बेचने और अंततः बनाने के लिए लुभाने के प्रयास के रूप में देखा जाता है, जहां ईवी बाजार अभी भी शुरुआती चरण में है। ब्लूमबर्गएनईएफ के अनुसार, पिछले साल हुई कुल यात्री वाहनों की बिक्री में ईवी की हिस्सेदारी 1.5 प्रतिशत से भी कम थी। कारों की उच्च लागत, विकल्पों की कमी और चार्जिंग स्टेशनों के विकास की आवश्यकता दुनिया के सबसे अधिक आबादी वाले देश के स्वच्छ ऊर्जा की ओर बढ़ने में बाधा बन रही है।

गौतम अडानी की बड़ी मुश्किलें, हिंडनबर्ग मामले में सेबी ने बढ़ाया जांच का दायरा

0

एक बार फिर उद्योगपति गौतम अडानी और उनकी कंपनी अडानी ग्रुप चर्चा में है। दरअसरल, अमेरिका की शॉर्ट सेलर कंपनी हिंडनबर्ग रिसर्च की रिपोर्ट के बाद से गौतम अडानी के संकट के बादल छटने के नाम नहीं ले रहे हैं। सेबी की एक जांच पहले से चल रही है, जिसका दायरा अब बढ़ा दिया गया है। सेबी जिन-जिन देशों में अडानी ग्रुप का कारोबार फैला है, उन देशों के मार्केट रेग्युलेटर से भी जानकारी जुटा रही है।

इतना ही नहीं सेबी ने अडानी समूह से जुड़ी ज्यादा से ज्यादा जानकारी जुटाने के लिए अब खोजी पत्रकारों के एक संगठन ओसीसीआरपी से भी संपर्क साधा है। इस संगठन ने अडानी ग्रुप को लेकर कई रिपोर्ट प्रकाशित की हैं और उनमें कई दस्तावेजों का हवाला दिया गया है। हालांकि ओसीसीआरपी ने किसी भी तरह के दस्तावेज देने से फिलहाल इनकार कर दिया है।

error: Content is protected !!